अपना चैन और आराम खोकर किया सबका सेवा सत्कार | अपनी कीमत खो देता है

अपना चैन और आराम खोकर किया सबका सेवा सत्कार | अपनी कीमत खो देता है

अपना चैन और आराम खोकर किया
सबका सेवा सत्कार
तभी तो कहलाया वो डाक्टर , वैद और हकीम
जिसके लिए न रात है न दिन , बस एक ही मकसद लिए जी रहा
मानवता की सेवा जो है उसका परम धर्म ।।
– Manju Lata

apana chain aur aaraam khokar kiya
sabaka seva satkaar
tabhee to kahalaaya vo daaktar , vaid aur hakeem
jisake lie na raat hai na din , bas ek hee makasad lie jee raha
maanavata kee seva jo hai usaka param dharm ..
– manju lat


भगवान का स्वरूप होते हैं डॉक्टर
जो अपना चैन और आराम खोकर
मरीजों की सेवा में रहते हैं तत्पर
खुश होकर करते हैं सबका सेवा सत्कार !!
– Anita Gupta

bhagavaan ka svaroop hote hain doktar
jo apana chain aur aaraam khokar
mareejon kee seva mein rahate hain tatpar
khush hokar karate hain sabaka seva satkaar !!
– anit gupt


अपना चैन और आराम खो कर,
किया मरीज की सेवा सत्कार,
हम सही- तुम गलत की इनकी लड़ाई ने,
दिया मरीज को मार,
सारी सेवा, सारा सत्कार हुआ बेकार।
– Farhat Fatima

apana chain aur aaraam kho kar,
kiya mareej kee seva satkaar,
ham sahee- tum galat kee inakee ladaee ne,
diya mareej ko maar,
saaree seva, saara satkaar hua bekaar.
– farhat fatim

FREE Subscription

Subscribe to get our latest contest updates, FREE Quizzes & Get The KHUSHU Annual RNTalks Magazine Free!

    We respect your privacy and shall never spam. Unsubscribe at any time.

    अपना चैन और आराम खोकर किया सेवा सत्कार,
    विश्व कल्याण के लिए ईश्वर ने लिया चिकित्सक का अवतार।
    – Kavita Singh

    apana chain aur aaraam khokar kiya seva satkaar,
    vishv kalyaan ke lie eeshvar ne liya chikitsak ka avataar.
    – kavit singh


    अपना चैन और आराम खोकर किया
    सबका सेवा सत्कार,
    अदृश्य दुश्मन व्याधियों से लड़ा।
    दिन रात ।
    कर्मपथ पर सदा अडिग, इंसान
    के रूप में भगवान का दुसरा रूप ,डाक्टर है ।
    Mridula Singh

    apana chain aur aaraam khokar kiya
    sabaka seva satkaar,
    adrshy dushman vyaadhiyon se lada.
    din raat .
    karmapath par sada adig, insaan
    ke roop mein bhagavaan ka dusara roop ,daaktar hai .
    mridul singh


    व्यर्थ बर्बाद किया समय अपनी कीमत खो देता है।
    – Dr Kavita Singh

    vyarth barbaad kiya samay apanee keemat kho deta hai.
    – dr kavit singh


    हर बुराई के सामने जो घुटने टेक देता है
    जात – पात और धर्म को जो इंसानियत से ऊपर रखता है
    अपने माता – पिता की जो आज्ञा नहीं मानता है
    देश की गरिमा को जो परदेस में ठेस पहुंचाता है
    ऐसा इंसान अपनी पहचान और अपनी कीमत खो देता है ।।
    – Nutan Yogesh Saxena

    har buraee ke saamane jo ghutane tek deta hai
    jaat – paat aur dharm ko jo insaaniyat se oopar rakhata hai
    apane maata – pita kee jo aagya nahin maanata hai
    desh kee garima ko jo parades mein thes pahunchaata hai
    aisa insaan apanee pahachaan aur apanee keemat kho deta hai ..
    – nutan yogaish saxain


    सामने थाली में भले ही
    स्वादिष्ट व्यंजन होता है
    बिना भूख , अपना स्वाद को देता है
    मूर्ख के हाथ आया मूल्यवान रत्न
    परख के अभाव में पत्थर ही होता है
    अपनी कीमत खो देता है
    बिना आवाज़ लगाए ही जो मीत,
    हाथ बढ़ाए ,हर क्षण उपलब्ध रहता है
    न जाने कब अपनी कद्र खो देता है
    बिना मांगे ही मिल जाती हैं खुशियां सारी
    उन्हें नहीं है ये जरा भी आभास,
    बड़ों की पूजा में कितना असर होता है।🙏
    – Neeti Jain

    saamane thaalee mein bhale hee
    svaadisht vyanjan hota hai
    bina bhookh , apana svaad ko deta hai
    moorkh ke haath aaya moolyavaan ratn
    parakh ke abhaav mein patthar hee hota hai
    apanee keemat kho deta hai
    bina aavaaz lagae hee jo meet,
    haath badhae ,har kshan upalabdh rahata hai
    na jaane kab apanee kadr kho deta hai
    bina maange hee mil jaatee hain khushiyaan saaree
    unhen nahin hai ye jara bhee aabhaas,
    badon kee pooja mein kitana asar hota hai.🙏
    – naiaiti jain

    FREE Subscription

    Subscribe to get our latest contest updates, FREE Quizzes & Get The KHUSHU Annual RNTalks Magazine Free!

      We respect your privacy and shall never spam. Unsubscribe at any time.

      रिश्ते दोस्त और पैसा बनाने में इन्सान पूरी उम्र लगा देता है।
      लेकिन वक्त पर जो काम ना आए वह अपनी कीमत खो देता है।
      वह चाहे रिश्ता हो दोस्त हो या पैसा।
      – Dipali Jadhav

      rishte dost aur paisa banaane mein insaan pooree umr laga deta hai.
      lekin vakt par jo kaam na aae vah apanee keemat kho deta hai.
      vah chaahe rishta ho dost ho ya paisa.
      – dipali jadhav


      अनर्गल प्रलाप करके,
      ईर्ष्या और द्वेष की भावना रख के
      मन में नफरत को भर के
      मनुष्य अपनी कीमत खो देता है।
      – Anita Gupta

      anargal pralaap karake,
      eershya aur dvesh kee bhaavana rakh ke
      man mein napharat ko bhar ke
      manushy apanee keemat kho deta hai.
      – anit gupt


      अपनी कीमत खो देता है
      करता है जो किसी से नफ़रत,
      अपनी कीमत खो देता है,
      ईर्ष्या द्वेष की भावना जो रखता,
      अपनी कीमत खो देता है,
      परस्पर प्रेम,प्यार से करता किनारा,
      अपनी कीमत खो देता है,
      धोखा फरेब से जो रखता है याराना,
      अपनी कीमत खो देता है। ।
      – Rajmati Pokhran Surana

      apanee keemat kho deta hai
      karata hai jo kisee se nafarat,
      apanee keemat kho deta hai,
      eershya dvesh kee bhaavana jo rakhata,
      apanee keemat kho deta hai,
      paraspar prem,pyaar se karata kinaara,
      apanee keemat kho deta hai,
      dhokha phareb se jo rakhata hai yaaraana,
      apanee keemat kho deta hai. .
      – rajmati pokhran suran


      झुकना अच्छी बात होती है
      ये आपके सरलता को दर्शाता है
      लेकिन झुक गए अगर गलत के सामने
      अपनी कीमत वहीं खो देते हैं
      पहचान खो बैठते हैं ।
      – Manju Lata

      jhukana achchhee baat hotee hai
      ye aapake saralata ko darshaata hai
      lekin jhuk gae agar galat ke saamane
      apanee keemat vaheen kho dete hain
      pahachaan kho baithate hain .
      – manju lat


      वस्तु या व्यक्ति की उपयोगिता उसकी वह शक्ति है जो उसकी कीमत तय करती है ।
      – Sarvesh Kumar Gupta

      vastu ya vyakti kee upayogita usakee vah shakti hai jo usakee keemat tay karatee hai .
      – sarvaish kumar gupt


      हर बुराई के सामने जो घुटने टेक देता है
      जात – पात और धर्म को जो इंसानियत से ऊपर रखता है
      अपने माता – पिता की जो आज्ञा नहीं मानता है
      देश की गरिमा को जो परदेस में ठेस पहुंचाता है
      ऐसा इंसान अपनी पहचान और अपनी कीमत खो देता है ।।
      – Nutan Yogesh Saxena

      har buraee ke saamane jo ghutane tek deta hai
      jaat – paat aur dharm ko jo insaaniyat se oopar rakhata hai
      apane maata – pita kee jo aagya nahin maanata hai
      desh kee garima ko jo parades mein thes pahunchaata hai
      aisa insaan apanee pahachaan aur apanee keemat kho deta hai ..
      – nutan yogaish saxain

      FREE Subscription

      Subscribe to get our latest contest updates, FREE Quizzes & Get The KHUSHU Annual RNTalks Magazine Free!

        We respect your privacy and shall never spam. Unsubscribe at any time.

        You Might Like To Read Other Hindi Poems

        Similar Posts

        Leave a Reply

        Your email address will not be published.