दीवारों से बातें करना मेरा होना ही जैसे

दीवारों से बातें करना | मेरा होना ही जैसे | किताबें

ऐ मेरे वतन के नौनिहालों
ये देश अब तुम ही संभालों
चलते रहो एक – दूसरे के साथ
यूं ही डाल कर हाथों में हाथ
वतन को तरक्की की राह पर ले जाओ
देश को मेरे फिर से विश्व गुरु बनाओ
ना आपस में कभी लड़ो, ना रखो कोई बैर
जात – पात, धर्म का भेद मिटा दो, ना हो कोई गैर
चलते जाओ, झूमते – गाते जाओ
एक – दूजे के साथ से हर राह आसान बनाओ ।।
– Nutan Yogesh Saxena

ai mere vatan ke naunihaalon
ye desh ab tum hee sambhaalon
chalate raho ek – doosare ke saath
yoon hee daal kar haathon mein haath
vatan ko tarakkee kee raah par le jao
desh ko mere phir se vishv guru banao
na aapas mein kabhee lado, na rakho koee bair
jaat – paat, dharm ka bhed mita do, na ho koee gair
chalate jao, jhoomate – gaate jao
ek – dooje ke saath se har raah aasaan banao ..
– nutan yogaish saxain


पकी फसल कटने को है।
मिलकर मनाएंगे बैसाखी का त्यौहार
ऊंची पतंग उड़ाएंगे
मिले जब परिवार का साथ
नई मंज़िल की ओर कदम अपने बढ़ाएंगे
देश में अपने हरित क्रांति लाएंगे
– Suraksha Khurana

pakee phasal katane ko hai.
milakar manaenge baisaakhee ka tyauhaar
oonchee patang udaenge
mile jab parivaar ka saath
naee manzil kee or kadam apane badhaenge
desh mein apane harit kraanti laenge
– suraksh khuran


एकरूपता और एकसूत्रता हो ऐसी
जैसे उड़ती पतंग के पीछे रहे डोर
– Sarvesh Kumar Gupta

दीवारों से बातें करना  | मेरा होना ही जैसे
दीवारों से बातें करना | मेरा होना ही जैसे | किताबें

ekaroopata aur ekasootrata ho aisee
jaise udatee patang ke peechhe rahe dor
– sarvaish kumar gupt


मेरे प्यारे बच्चों ! चलो सैर कर आएं
खेत , खलिहान और हरियाली की
देखो उम्मीदें उम्मीद लगाए बैठी हैं
भोर की लालिमा उगने वाली है
अभी है तमस तो क्या
हर तमस के बाद सुहानी सुबह जो आती है
राष्ट्र प्रेम है अगर तुममे
संगठित हो जाओ , बैर भाव को दूर भगाओ
लग जाओ तुम सुहानी सुबह को प्रखर करने में ।।
– Manju Lata

mere pyaare bachchon ! chalo sair kar aaen
khet , khalihaan aur hariyaalee kee
dekho ummeeden ummeed lagae baithee hain
bhor kee laalima ugane vaalee hai
abhee hai tamas to kya
har tamas ke baad suhaanee subah jo aatee hai
raashtr prem hai agar tumame
sangathit ho jao , bair bhaav ko door bhagao
lag jao tum suhaanee subah ko prakhar karane mein ।।
– manju lat

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *