समझो तो जरा खामोशी क्या कहती है | इन आँखो में बसे सपने

सुख – दुख के पहलू को समझाती है
हर समय का भान कराती है
समझो तो ज़रा, ख़ामोशी क्या कहती है
रेखा अग्रवाल🖋

sukh – dukh ke pahaloo ko samajhaatee hai
har samay ka bhaan karaatee hai
samajho to zara, khaamoshee kya kahatee hai
rekha agravaal🖋


समझो तो जरा खामोशी क्या कहती है
खामोशी की जुबान जिसने जाना
उसने ही उस रब को भी पहचाना
वह है नामरूप से परे केवल प्रेम और शांति का
तेजस स्वरूप जो समाया है प्रत्येक में
खामोशी से ही भरता है वह तेज सब में
पर खामोश होना है चुप नहीं
-मधु खरे

samajho to jara khaamoshee kya kahatee hai
khaamoshee kee jubaan jisane jaana
usane hee us rab ko bhee pahachaana
vah hai naamaroop se pare keval prem aur shaanti ka
tejas svaroop jo samaaya hai pratyek mein
khaamoshee se hee bharata hai vah tej sab mein
par khaamosh hona hai chup nahin
-madhu khare


खामोशी आती है मगर
दिल दुखाने नही –
सपनों को सजाने !!
-सर्वेश कुमार गुप्ता

समझो तो जरा खामोशी क्या कहती है | इन आँखो में बसे सपने
समझो तो जरा खामोशी क्या कहती है | इन आँखो में बसे सपने

khaamoshee aatee hai magar
dil dukhaane nahee –
sapanon ko sajaane !!
-sarvesh kumaar gupta


जो तुम्हारी खामोशी को समझ जाता है
वह तुम्हारे दिल और दिमाग दोनों को पढ़ पाता है
सही मायने में उसी से तुम्हारा सच्चा नाता है
-ऋतू जैन

jo tumhaaree khaamoshee ko samajh jaata hai
vah tumhaare dil aur dimaag donon ko padh paata hai
sahee maayane mein usee se tumhaara sachcha naata hai
-rtoo jain

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *