कल एक झलक ज़िंदगी को देखा | कभी हार मत मानो | अकेलापन सताता है

कल एक झलक ज़िंदगी को देखा | कभी हार मत मानो | अकेलापन सताता है

हसते हुए बच्चे की आखों में देखा..
नन्हा सा एक ख्वाब था अनोखा।
मजदूर माँ ने थाम था रखा..
कल एक झलक जिंदगि को देखा।
-दीपाली

hasate hue bachche kee aakhon mein dekha..
nanha sa ek khvaab tha anokha.
majadoor maan ne thaam tha rakha..
kal ek jhalak jindagi ko dekha.
-deepaalee


कल एक झलक जिंदगी को देखा
मस्त और खुशगवार एक भिखारी को पाया
परेशानियों को पैरों तले दबाकर
बिन्दास खिलखिलाते देखा है उसको ।
-मंजू लता

kal ek jhalak jindagee ko dekha
mast aur khushagavaar ek bhikhaaree ko paaya
pareshaaniyon ko pairon tale dabaakar
bindaas khilakhilaate dekha hai usako .
-manjoo lata


माथे पर बड़ी सी लाल बिंदी…
सिंदूर से भरी थी पूरी मांग…
पैरो में पायल और बिछिया….
मैंने कल एक झलक जिंदगी को देखा…!!
-(नेह)

कल एक झलक ज़िंदगी को देखा | कभी हार मत मानो | अकेलापन सताता है

maathe par badee see laal bindee…
sindoor se bharee thee pooree maang…
pairo mein paayal aur bichhiya….
mainne kal ek jhalak jindagee ko dekha…!!
-(neh)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.