तितली | क्या पाऊँगा मैं और क्या दिल खोयेगा 

तितली | क्या पाऊँगा मैं और क्या दिल खोयेगा

रस, रूप रंग और गंध के
आकर्षण में फंसकर
इस फूल से उस फूल,
तितली की तरह भटकते रह जाओगे
सार गृहण नहीं किया और
भव भव के भंवर में चक्कर खाओगे।
-नीति जैन

ras, roop rang aur gandh ke
aakarshan mein phansakar
is phool se us phool,
titalee kee tarah bhatakate rah jaoge
saar grhan nahin kiya aur
bhav bhav ke bhanvar mein chakkar khaoge.
-neeti jain


बिछा मखमली बिछौना
दिया सुगंध का अहसास
रख अद्वितीय मधु और पराग,
यह देख स्रजन प्रकृति का..!
मन की बाहों ने ली अंगड़ाई
और उड़ आई वन की रानी
जहाँ खिली थी फूल की जवानी,
करने सफल प्यार एक फूल का..!
-सर्वेश कुमार गुप्ता

bichha makhamalee bichhauna
diya sugandh ka ahasaas
rakh adviteey madhu aur paraag,
yah dekh srajan prakrti ka..!
man kee baahon ne lee angadaee
aur ud aaee van kee raanee
jahaan khilee thee phool kee javaanee,
karane saphal pyaar ek phool ka..!
-sarvesh kumaar gupta

FREE Subscription

Subscribe to get our latest contest updates, FREE Quizzes & Get The KHUSHU Annual RNTalks Magazine Free!

    We respect your privacy and shall never spam. Unsubscribe at any time.

    Similar Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.