मैं ही मैं हूँ हर जगह, माँ प्यार ये तेरा कैसा है? - Mother’s Day Poetry Prompt-4

चांदी से बाल ये तुम्हारे, 👱‍♀️
गुलाल से गाल ये तुम्हारे,😊
खुदा से न कोई गिला, न
है अब दिल में कोई मलाल मेरे ….
कश्मकश हो या मन में बवाल घेरे,🌀
” जवाब बस एक तू “
अनगिनत सवाल के मेरे !!
I Lö♈ê Yõ⛎ ♏ãå
-श्वेता जैन ❤️


chaandee se baal ye tumhaare, 👱‍♀
gulaal se gaal ye tumhaare,😊
khuda se na koee gila, na
hai ab dil mein koee malaal mere ….
kashmakash ho ya man mein bavaal ghere,🌀
” javaab bas ek too “
anaginat savaal ke mere !!
i lo♈ai yo⛎ ♏aa
-shveta jain ❤


माँ एक ऐसी हस्ती,
मुसीबत में बन जाती कश्ती,
बिठाकर अपने अंक में ,
बच्चों के जीवन में लाती मस्ती।
आँधी हो या तूफान,
उसके साये से बड़ा कोई नहीं जहाँन,
संभाल लेती है हर स्थिति में वो,
तभी तो कहलाती है वो महान।
आँखे देखिये उसकी रहस्यमयी,
आँचल है उसका ममतामयी,
लाख दर्द मिले तो भी वो तो ,
ह्रदय में बसती स्नेहिल बूंदें अमृतमयी। ।।
-डाॅ राजमती पोखरना सुराना


maan ek aisee hastee,
museebat mein ban jaatee kashtee,
bithaakar apane ank mein ,
bachchon ke jeevan mein laatee mastee.
aandhee ho ya toophaan,
usake saaye se bada koee nahin jahaann,
sambhaal letee hai har sthiti mein vo,
tabhee to kahalaatee hai vo mahaan.
aankhe dekhiye usakee rahasyamayee,
aanchal hai usaka mamataamayee,
laakh dard mile to bhee vo to ,
hraday mein basatee snehil boonden amrtamayee. ..
-dr raajamatee pokharana suraana


मां बनना नहीं कोई आसान
यह तो है विधी का विधान
नैया जो यह पार कर जाए
समझो भव सागर तर जाए
प्रसव पीड़ा क्या कोई जाने
समझें वहीं जो गोता लगाएं
अदभुत है यह परिकल्पना
इससे न दूजी कोई संरचना
प्रभु का यह वरदान अनोखा
क्यों पड़ते हो लिंग भेद में फिर
पुरुष ही है जिस का जिम्मेदार
क्यों करते नारी पर प्रत्यारोपण
वो तो है सृष्टि की धरोहर
मां जैसा न कोई अनमोल रत्न
-मुकेश भटनागर


maan banana nahin koee aasaan
yah to hai vidhee ka vidhaan
naiya jo yah paar kar jae
samajho bhav saagar tar jae
prasav peeda kya koee jaane
samajhen vaheen jo gota lagaen
adabhut hai yah parikalpana
isase na doojee koee sanrachana
prabhu ka yah varadaan anokha
kyon padate ho ling bhed mein phir
purush hee hai jis ka jimmedaar
kyon karate naaree par pratyaaropan
vo to hai srshti kee dharohar
maan jaisa na koee anamol ratn
-mukesh bhatanaagar

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *