जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ | Mother’s Day Poetry Prompt

जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ
जहां में सच्ची मुहब्बत मिलती है कहाँ,
लोगों के दिल में शराफत मिलती है कहाँ,
प्यार, मुहब्बत, चाहत, सुनहरा है धोखा ,
सभी को जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ।

बिना मेहनत के सफलता मिलती है कहाँ,
बिना रोयें बच्चे को खाद्य वस्तु मिलती है कहाँ,
ये दुनिया अजीब सी है कठिन है राह बहुत,
बिना अरदास के जमीं पर जन्नत मिलती है कहाँ। ।
-डाॅ राजमती पोखरना सुराना


jameen par jannat milatee hai kahaan
jahaan mein sachchee muhabbat milatee hai kahaan,
logon ke dil mein sharaaphat milatee hai kahaan,
pyaar, muhabbat, chaahat, sunahara hai dhokha ,
sabhee ko jameen par jannat milatee hai kahaan.

bina mehanat ke saphalata milatee hai kahaan,
bina royen bachche ko khaady vastu milatee hai kahaan,
ye duniya ajeeb see hai kathin hai raah bahut,
bina aradaas ke jameen par jannat milatee hai kahaan.

जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ | Mother
जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ | Mother’s Day Poetry Prompt

राहों में चलते – चलते
गिर कर संभलते – संभलते
थके नहीं – रुके नहीं
चाहें हो आंधी या तूफान
कुछ पाने का रख ज़नून
थाम कर आशा का दामन
मिलेगा जब यहाँ सुकून
है वहीं जन्नत की जमीन।
-सर्वेश कुमार गुप्ता


raahon mein chalate – chalate
gir kar sambhalate – sambhalate
thake nahin – ruke nahin
chaahen ho aandhee ya toophaan
kuchh paane ka rakh zanoon
thaam kar aasha ka daaman
milega jab yahaan sukoon
hai vaheen jannat kee jameen.
-sarvesh kumaar gupta

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.