Rakshabandhan Quotes and Poetry in Hindi

Rakshabandhan Quotes and Poetry in Hindi

Raksha Bandhan is the most awaited and celebrated festivals in India and it is celebrated every year with great joy and enthusiasm.

Rakhi is another name for this festival, and it is celebrated on the full moon day of the Hindu month of Shravan.

It is a very special occasion for brothers and sisters as they get to express their love and affection for each other.

Sacred threads called Rakhi are tied around sisters’ brothers’ wrists and pray for their safety and well-being on this day.

As a token of appreciation, the brothers pledge to protect their sisters from all harm and troubles.

This beautiful festival strengthens the bond of love and affection between brothers and sisters.

Rakshabandhan is celebrated with great joy and enthusiasm all over India. People share gifts and sweets with each other and enjoy the festival to the fullest.

Sisters also prepare special dishes for their brothers and the whole day is spent in fun and frolic. This festival is a great way to express your love and affection for your siblings.

So, if you are looking for a way to make this Rakshabandhan even more special, then go ahead and send some amazing Rakhi gifts to your brothers and sisters.

You can also send Rakhi online to your loved ones if you are not able to be with them on this special day. So, go ahead and make this Rakshabandhan a memorable one for your loved ones.


मुझे तुम एडोप्टेड सा लगते हो,
बात –बात पर तंग करते हो ,
हर बात पर मेरी टांग खींचते हो,
देखते ही मुझे मुंह बनाते हो,
न जाने कितने ही बेहूदा नाम से पुकारते हो,
कभी चोटी ,तो कभी रंगोली,तो कभी
मूड बिगाड़ देते हो ,
छोटे!!मुझे तुम एडोप्टेड सा लगते हो…
मेरी सारी पॉकेट मनी खा जाते हो,
मतलब से मेरे आगे पीछे फिरते हो,
पर वीरे! मेरा बाबू शोना, क्या तुम ये जानते हो ?
मुझे तुम “पापा”से लगते हो,
हर बात में उन्हीं सा खयाल रखते हो !!
मेरे गिरते–टूटते हौसलों को तुम ही संभालते हो ,
वीरे !! संवारी हुई चोटी बिगाड़ते तो हो, मगर डगमग सी ज़िंदगी को तुम ही तो संवारते हो !!
बिन जताए , दुआओं सा असर कर जाते हो !
भाई! तुम मुझे एडोप्टेड सा लगते हो !!
– Shwetha Jain


प्रीत के धागे से बन्धा भाई बहन का प्यार है।
लो आ गया रक्षा बन्धन का त्योहार है । .
रेशम के धागे का यह मजबूत बन्धन है।
भाई के माथे पर चमके चावल रोली चन्दन है।
धरा ने चन्द्र को पहनाई इन्द्रधनुषी राखी है।
अम्बर ने प्यार की बूदों की रिम झिम झड़ी लगाई है ।
ऐसे में भाई तुम दोनों की याद बहुत आई है ।
नयनों ने भी आज आंसूओं की झड़ी लगाई है।
छोटे ने तुम दोनों की हर फर्ज बखुबी निभाई है।
“दिलों का रिश्ता” बड़ी जिम्मेदारी से सजाई है ।
बिना शर्त का यह बन्धन हर रिश्तों पर भारी है।
तभी तो कृष्ण ने पांचाली की रक्षा के लिये थी चीर बढ़ाई ।
जब भी हो रक्षा बन्धन भाई तुम आ जाना झट से ,
बस इतनी सी चाहत है मेरी । To
करूं प्रार्थना ईश्वर से सदा खुश रहना,
दुख तुमको छू भी न पाये लम्बी उम्र हो तेरी , मेरे भाई
– Mridula Singh


Rakshabandhan Quotes and Poetry in Hindi
Rakshabandhan Quotes and Poetry in Hindi

राखी के यह रंग बिरंगे धागे
भाई बहन के अटूट प्रेम को दिखाकर
उनका जीवन खुशियों से भर देते हैं।
– Anita Gupta

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.