हमारे हर मर्ज की दवा होती है माँ - Mother’s Day Poetry Prompt-2

हमारे हर मर्ज की दवा होती है माँ – Mother’s Day Poetry Prompt-2

टूट गया विश्वास मेरा
भ्रम सभी जाता रहा
जो थी दवा मेरे हर मर्ज की
वो माँ चली गयी!
माँ कभी मर नही सकती
पर मौत ने छिन लिया
माँ मेरी!
ममता खो गयी
माँ चली गयी
मुट्ठी से फिसलती रेत की तरह
माँ चली गयी बहुत दूर मुझसे !
जानती हूँ अब मुझसे कोई नही पूछेगा
क्या खाओगी बेटी
क्यूँ परेशान हो बेटी
तुम्हारी आवाज़, क्यूँ उदास सी है बेटी
माँ चली गयी
दूर बहुत ही दूर मुझसे
ज़िन्दगी भर जिसने थाम कर हाथ मेरा
मुझे जीना सिखाया
मुश्किल घड़ी में भी
हँसना सिखाया
धूप का साया न पड़े मुझपर
ये सोचकर आँचल का छायामें
छिपाया मुझको
माँ चली गयी!
जानती हूँ अब गीले तकियों की सिसकियाँ
यूँ ही सूख जाएगी
कोई नहीं पूछेगा बेटी
क्यूँ परेशान हो तुम
पर माँ कहीं जाती नही
माँ कभी जाती नही
हर घड़ी दुआ बनकर
बच्चो के लिए काला टीका बनकर
माँ रहती है हमारे ही समीप
क्योंकि माँ शब्द नही सृष्टि है
माँ इस जहान की सबसे अजीम हस्ती है
माँ प्यार है जज्बात है
माँ इस धड़कते दिल की एहसास है
माँ है तो इंतज़ार है
माँ सिर्फ माँ है।
-राधा शैलेन्द्र


toot gaya vishvaas mera
bhram sabhee jaata raha
jo thee dava mere har marj kee
vo maan chalee gayee!
maan kabhee mar nahee sakatee
par maut ne chhin liya
maan meree!
mamata kho gayee
maan chalee gayee
mutthee se phisalatee ret kee tarah
maan chalee gayee bahut door mujhase !
jaanatee hoon ab mujhase koee nahee poochhega
kya khaogee betee
kyoon pareshaan ho betee
tumhaaree aavaaz, kyoon udaas see hai betee
maan chalee gayee
door bahut hee door mujhase
zindagee bhar jisane thaam kar haath mera
mujhe jeena sikhaaya
mushkil ghadee mein bhee
hansana sikhaaya
dhoop ka saaya na pade mujhapar
ye sochakar aanchal ka chhaayaamen
chhipaaya mujhako
maan chalee gayee!
jaanatee hoon ab geele takiyon kee sisakiyaan
yoon hee sookh jaegee
koee nahin poochhega betee
kyoon pareshaan ho tum
par maan kaheen jaatee nahee
maan kabhee jaatee nahee
har ghadee dua banakar
bachcho ke lie kaala teeka banakar
maan rahatee hai hamaare hee sameep
kyonki maan shabd nahee srshti hai
maan is jahaan kee sabase ajeem hastee hai
maan pyaar hai jajbaat hai
maan is dhadakate dil kee ehasaas hai
maan hai to intazaar hai
maan sirph maan hai.
-raadha shailendr

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.