मैं ही मैं हूँ हर जगह, माँ प्यार ये तेरा कैसा है? - Mother’s Day Poetry Prompt-4

जादू है माँ तुम्हारे होने में मेरी माँ
न जाने कौन सा जादू है
माँ तुम्हारे होने में
कोई तरीका आता नहीं
तुम्हें भूल जाने का!
खुद को भी भूल जाती हूँ
जब साँसों में तुम्हीं को पाती हूँ!
वो रात मुझे कचोटती है आज भी
जब रेत की तरह फिसली थी
तुम्हारी हथेली मेरी हथेली से,
खुद को रोक न पायी थी मैं
अपनी गिरती साँसों की परछायी में
माँ तुम्हीं नजर मुझे आयी थी!
तुम्हारे हर स्पर्श को अपने वजूद में महसूस करती हूँ
माँ तुम्हारी धड़कन को अपनी धड़कन में पाती हूँ
इतना प्यार दिया था तुमने
तुम्हारी इस वसीयत को सबों में लुटाती हूँ
माँ हर रोज आँसू पीती हूँ
पर दर्द नहीं दिखलाती हूँ!
संवेदना तुम मेरी हो
ये दुनिया कहाँ समझ पायेगी
पर रंग बदलकर रोज नया
तुम पर ही लिख जाती हूँ!
तुम्हारी सारी यादें खुद में समेट मैं जिंदा हूँ
थोड़ी सी मगर खुद से भी शर्मिंदा हूँ
तुमने तो माँ बनकर कितने फर्ज निभाये हैं
बचपन के वो सारे सुख मैंने
माँ तुमसे ही तो पाये है
लोरी गाकर माँ तुमने मुझको
अक्सर ही सुलाया था
पर आज मुझे यूँ तन्हा छोड़कर
माँ तुमको तो न जाना था?
मेरे लिये जीने का सबब बन
माँ फिर तुमको तो आना था
कैसे चुकाऊँ मैं कर्ज तेरा
तुम्हें फिर मेरे लिए तो आना था माँ!
-राधा शैलेन्द्र


jaadoo hai maan tumhaare hone mein meree maan
na jaane kaun sa jaadoo hai
maan tumhaare hone mein
koee tareeka aata nahin
tumhen bhool jaane ka!
khud ko bhee bhool jaatee hoon
jab saanson mein tumheen ko paatee hoon!
vo raat mujhe kachotatee hai aaj bhee
jab ret kee tarah phisalee thee
tumhaaree hathelee meree hathelee se,
khud ko rok na paayee thee main
apanee giratee saanson kee parachhaayee mein
maan tumheen najar mujhe aayee thee!
tumhaare har sparsh ko apane vajood mein mahasoos karatee hoon
maan tumhaaree dhadakan ko apanee dhadakan mein paatee hoon
itana pyaar diya tha tumane
tumhaaree is vaseeyat ko sabon mein lutaatee hoon
maan har roj aansoo peetee hoon
par dard nahin dikhalaatee hoon!
sanvedana tum meree ho
ye duniya kahaan samajh paayegee
par rang badalakar roj naya
tum par hee likh jaatee hoon!
tumhaaree saaree yaaden khud mein samet main jinda hoon
thodee see magar khud se bhee sharminda hoon
tumane to maan banakar kitane pharj nibhaaye hain
bachapan ke vo saare sukh mainne
maan tumase hee to paaye hai
loree gaakar maan tumane mujhako
aksar hee sulaaya tha
par aaj mujhe yoon tanha chhodakar
maan tumako to na jaana tha?
mere liye jeene ka sabab ban
maan phir tumako to aana tha
kaise chukaoon main karj tera
tumhen phir mere lie to aana tha maan!
-raadha shailendr


मां मेरी मां,
जब तू गोद में उठाकर,
लोरी गाती मां ‘ ।
खो जाती सपनों में
और मीठी नींद सो जाती ।
जहाँ दूनिया की कोई जिक्र नही,
अपनी मुझे कोई फिक्र नही ।
तरी ममता की छांव में,
अब तो मैं बेफिक्र मां ।
मेरा सारा वजूद तुमसे मां,
मेरी शांमो शहर तुमसे मां।
जब भी देखू आइना,
लागू तुझ जैसी मां।
-मृदुला सिंह


maan meree maan,
jab too god mein uthaakar,
loree gaatee maan .
kho jaatee sapanon mein
aur meethee neend so jaatee .
jahaan dooniya kee koee jikr nahee,
apanee mujhe koee phikr nahee .
taree mamata kee chhaanv mein,
ab to main bephikr maan .
mera saara vajood tumase maan,
meree shaammo shahar tumase maan.
jab bhee dekhoo aaina,
laagoo tujh jaisee maan.
-mrdula sinh

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *