जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ।
जमीन पर जन्नत मिलती है माँ के
आँचल में…
माँ की मुस्कान में..
माँ की लोरी में..
माँ की मुलायम नर्म बाहों में।
-अनीता गुप्ता


jameen par jannat milatee hai kahaan.
jameen par jannat milatee hai maan ke
aanchal mein…
maan kee muskaan mein..
maan kee loree mein..
maan kee mulaayam narm baahon mein


जो हंस दे तू,
जो हंस दे तू मां…तुम्हारी एक मुस्कान
पर वार दून में ये अपने दिल और जान ।
तुम्हारी बाहों में ही तो सिमटा है मेरा पूरा आसमान ….
जो तू संग है तो अपना सा लगे ये सारा
जहां,हर घम हैं मेरी दहलीज से अंजान ।।
तुम्हारे हाथों के जादू से लगे
सूखी रोटी भी लगे लज़ीज़
जैसे सौ पकवान…
बिना तुम्हारे कोई भी कदम
नहीं है आसान ।
मां के बिना ज़मीन पर जन्नत
मिलती है कहां!??
खंडार है महल भी मां के बिना…
मरघट सा विरान !!
श्वेता❤️


jo hans de too,
jo hans de too maan…tumhaaree ek muskaan
par vaar doon mein ye apane dil aur jaan .
tumhaaree baahon mein hee to simata hai mera poora aasamaan ….
jo too sang hai to apana sa lage ye saara
jahaan,har gham hain meree dahaleej se anjaan ..
tumhaare haathon ke jaadoo se lage
sookhee rotee bhee lage lazeez
jaise sau pakavaan…
bina tumhaare koee bhee kadam
nahin hai aasaan .
maan ke bina zameen par jannat
milatee hai kahaan!??
khandaar hai mahal bhee maan ke bina…
maraghat sa viraan !!
shveta❤

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *