जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

Every purchase made through our affiliate links earns us a pro-rated commission without any additional cost to you. Here are more details about our affiliate disclosure.

ज़मीन पर जन्नत मिलती है
मां के आंचल की छाया में,
मां के क़दमों में,
मां की हिदायतों में,
मां के आशीर्वाद में,
मां को गुरु का दर्जा देने में…
मां जैसा दूसरा कोई हो ही नहीं सकता…
-सुरक्षा प्रुथी खुराना


zameen par jannat milatee hai
maan ke aanchal kee chhaaya mein,
maan ke qadamon mein,
maan kee hidaayaton mein,
maan ke aasheervaad mein,
maan ko guru ka darja dene mein…
maan jaisa doosara koee ho hee nahin sakata…
-suraksha pruthee khuraana

करते हैं बात हम जन्नत की
लेकिन जन्नत किसी ने देखी है क्या?
लेकिन अपने घर के अन्दर अगर हम झाँकें
तो माँ के आंचल में पाएंगे जन्नत यहाँ
जिसने हमें जन्म दिया , पाला , पोसा , बड़ा किया
दुनिया के ऊँच नीच से अवगत किया
हर शक्तियों से पोषित किया
ऐसी है जन्नत यहाँ
वर्ना जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ ?
-मंजू लता


karate hain baat ham jannat kee
lekin jannat kisee ne dekhee hai kya?
lekin apane ghar ke andar agar ham jhaanken
to maan ke aanchal mein paenge jannat yahaan
jisane hamen janm diya , paala , posa , bada kiya
duniya ke oonch neech se avagat kiya
har shaktiyon se poshit kiya
aisee hai jannat yahaan
varna jameen par jannat milatee hai kahaan ?
-manjoo lata

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *