जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ
माँ के आंचल में ,
ममता के स्पर्श मेँ
लोरी गाती माँ में
प्यार बरसाती माँ में
खुशियाँ ही खुशियां हैँ माँ में
…यहॉं वहाँ सारे जहां में।।
-अनीता गुप्ता


jameen par jannat milatee hai kahaan
maan ke aanchal mein ,
mamata ke sparsh men
loree gaatee maan mein
pyaar barasaatee maan mein
khushiyaan hee khushiyaan hain maan mein
…yahon vahaan saare jahaan mein..
-aneeta gupta


जमीन पर जन्नत मिलती है कहां..
जिस ने भी खुद को इंसान कर लिया।
भगवान ने तुझे तो मानव बनाकर भेजा था
लेकिन जमीन का
क्यूं तूने खुद को शैतान सा बेईमान कर लिया।
उठाकर किसी गरीब लाचार को जमीन
से खुद को जमीन से ऊँचा आसमान कर लिया।
कोसते रहते हैं लोग हर वक्त एक दूसरों
की शौहरतों को अच्छे भले जन्नत से जिस्म को शमशान कर लिया।
पाल लिया समझो उसने एक नर्क अपने
भीतर जिस ने भी अपनी कामयाबियों पर गुमान कर लिया।
करके हर अपने पराये की दिल से मदद
मुश्किल जीवन को हमने बड़ा आसान कर लिया।
हटाता गया मालिक उसकी राह से हर
कांटे को जिस ने खुद को उसकी खातिर परेशान कर लिया।
जमीन पर जन्नत मिलती है कहां..
जमीन पर जन्नत मिलती है कहां।
-कुंज चन्ने


jameen par jannat milatee hai kahaan..
jis ne bhee khud ko insaan kar liya.
bhagavaan ne tujhe to maanav banaakar bheja tha
lekin jameen ka
kyoon toone khud ko shaitaan sa beeemaan kar liya.
uthaakar kisee gareeb laachaar ko jameen
se khud ko jameen se ooncha aasamaan kar liya.
kosate rahate hain log har vakt ek doosaron
kee shauharaton ko achchhe bhale jannat se jism ko shamashaan kar liya.
paal liya samajho usane ek nark apane
bheetar jis ne bhee apanee kaamayaabiyon par gumaan kar liya.
karake har apane paraaye kee dil se madad
mushkil jeevan ko hamane bada aasaan kar liya.
hataata gaya maalik usakee raah se har
kaante ko jis ne khud ko usakee khaatir pareshaan kar liya.
jameen par jannat milatee hai kahaan..
jameen par jannat milatee hai kahaan.
-kunj channe

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *