जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

जमिन पर जन्नत मिलती है कहाँ
साया माता पिता का सर पर हो जहाँ
अमन शन्ति और चैन हो जहाँ
प्यार अपनो का बरसता हो वहाँ ।
-दीपाली


jamin par jannat milatee hai kahaan
saaya maata pita ka sar par ho jahaan
aman shanti aur chain ho jahaan
pyaar apano ka barasata ho vahaan .
-deepaalee


माँ की गोद में जब हम थके हुए दिन के बाद घर आते हैं,
बच्चों की मुस्कान में जब आप उन्हें गले लगाते हैं,
पानी के गिलास में जब आप तनावपूर्ण काम के बाद घर लौटते हैं!
-नंदावती भोसले


maan kee god mein jab ham thake hue din ke baad ghar aate hain,
bachchon kee muskaan mein jab aap unhen gale lagaate hain,
paanee ke gilaas mein jab aap tanaavapoorn kaam ke baad ghar lautate hain!
-nandaavatee bhosale


जमीं पर जन्नत वहां मिलती है कहाँ
मां की नैमत जहां होती है जहाँ
दुनिया जीत भी लो फिर भी
मां बिना जीत भी अधूरी होती है
समेट लेती है मां अपने आंचल में
दुनिया की सारी बलाएं और मुसीबतें
अपने औलाद को वो कोई गम
छूने भी कहां देती है
मुस्कुराती है कि उसकी
संतान जब मुस्कुराती है
मर जाती है अंदर घुटकर जब
संतान को ज़रा सा दुखी देखती है
जमीं पर जन्नत कहां मिलती है कहाँ
ज़मी पर जन्नत सिर्फ मां होती है जहाँ
-अनिता पाठक


jameen par jannat vahaan milatee hai kahaan
maan kee naimat jahaan hotee hai jahaan
duniya jeet bhee lo phir bhee
maan bina jeet bhee adhooree hotee hai
samet letee hai maan apane aanchal mein
duniya kee saaree balaen aur museebaten
apane aulaad ko vo koee gam
chhoone bhee kahaan detee hai
muskuraatee hai ki usakee
santaan jab muskuraatee hai
mar jaatee hai andar ghutakar jab
santaan ko zara sa dukhee dekhatee hai
jameen par jannat kahaan milatee hai kahaan
zamee par jannat sirph maan hotee hai jahaan
-anita paathak

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *