जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

कैसे कहूँ शुक्रिया माँ
कैसे करुं शब्दों में बयां,
तुम तो जीवनहो माँ
वात्सल्य से भरी हुई प्रतिमूर्ति हो माँ
मुझको दिया जीवन तुमने
जी सकूँ इस योग्य बनाया तुमने
कैसे कहूँ शुक्रिया माँ!
जब भी भींगती है पलके मेरी
आँचल का कोना दिया तुमने
दुनिया के गर्म थपेड़ों में
एक शीतल छाव हो माँ
कैसे करूँ शब्दों में बयां
तुम तो मेरी सांस हो माँ!
माँ-बेटी का पावन रिश्ता
कैसे कोई बयां कर
जब भी चोट मुझे लगती है
दर्द तुम्हे ज़्यादा होती है
कैसे करूँ शब्दों में बयां
तुम तो मेरी आस हो माँ!
मुझमें जो कुछ अच्छा
सब दिया हुआ तुम्हारा है!
कैसे करूँ शब्दों में बयां
तुम तो मेरी दोनों हो माँ!
मैं रहूं न रहूं
एक अक्स तो छोड़ जाऊंगी ही
जिसमे दिखे तुम्हारा चेहरा
वो आईना छोड़ जाऊंगी!
शुक्रिया शब्द छोटा कितना
तुम्हारा प्यार इतना फैला है
बस माफ करना माँ मुझको
हो गई हो कोई भूल मुझसे!
-राधा शैलेन्द्र


kaise kahoon shukriya maan
kaise karun shabdon mein bayaan,
tum to jeevanaho maan
vaatsaly se bharee huee pratimoorti ho maan
mujhako diya jeevan tumane
jee sakoon is yogy banaaya tumane
kaise kahoon shukriya maan!
jab bhee bheengatee hai palake meree
aanchal ka kona diya tumane
duniya ke garm thapedon mein
ek sheetal chhaav ho maan
kaise karoon shabdon mein bayaan
tum to meree saans ho maan!
maan-betee ka paavan rishta
kaise koee bayaan kar
jab bhee chot mujhe lagatee hai
dard tumhe zyaada hotee hai
kaise karoon shabdon mein bayaan
tum to meree aas ho maan!
mujhamen jo kuchh achchha
sab diya hua tumhaara hai!
kaise karoon shabdon mein bayaan
tum to meree donon ho maan!
main rahoon na rahoon
ek aks to chhod jaoongee hee
jisame dikhe tumhaara chehara
vo aaeena chhod jaoongee!
shukriya shabd chhota kitana
tumhaara pyaar itana phaila hai
bas maaph karana maan mujhako
ho gaee ho koee bhool mujhase!
-raadha shailendr

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *