जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

मुझ से फ़रिश्ते ने पूछा
ज़मीन पर जन्नत मिलती है कहाँ
मैंने कहा इसे तेरा क्या राब्ता?
ज़िद्द कर बैठा बोला कुछ तो बता
मैंने कहा तो ध्यान से सुन ज़रा-
जिसके आँचल की छाँव मे
जीवन आबाद हो जाए
चरणों के जिसकी धूल मिले
तो स्वर्ग का एहसास हो जाए
कष्ट मेरे सारे जो ओढ़ ले
जिसके वजूद से मुझे वजूद मिल जाए
बस उसी (माँ ) के चरणों मे जन्नत मिलती है….
-प्रतिभा आहूजा नागपाल


mujh se farishte ne poochha
zameen par jannat milatee hai kahaan
mainne kaha ise tera kya raabta?
zidd kar baitha bola kuchh to bata
mainne kaha to dhyaan se sun zara-
jisake aanchal kee chhaanv me
jeevan aabaad ho jae
charanon ke jisakee dhool mile
to svarg ka ehasaas ho jae
kasht mere saare jo odh le
jisake vajood se mujhe vajood mil jae
bas usee (maan ) ke charanon me jannat milatee hai….
-pratibha aahooja naagapaal

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *