जमीन पर जन्नत मिलती है कहाँ Mother's Day Poetry Prompt

मां के चरणों के सिवा
मिलती नहीं है कहीं जन्नत
जिसने किया न मां का मान
वह किसी का नहीं हो पाता
ये धरा तभी है जन्नत
जब मां-बाप हो तुम्हारे संग
आशीर्वाद सदा बना है रहता
विपदा हो या कैसी भी आपदा
चरण रज का स्पर्श ही
जन्नत का एहसास
मुकेश भटनागर


maan ke charanon ke siva
milatee nahin hai kaheen jannat
jisane kiya na maan ka maan
vah kisee ka nahin ho paata
ye dhara tabhee hai jannat
jab maan-baap ho tumhaare sang
aasheervaad sada bana hai rahata
vipada ho ya kaisee bhee aapada
charan raj ka sparsh hee
jannat ka ehasaas
mukesh bhatanaagar

सूखी धरा पर गिरती है जैसे बूंदों की बौछार..
वैसा ही जादू सा लहराता तुम्हारा आंचल लाता है मेरे चेहरे पर बहार ।
सीने से लग कर मिलता मुझ अल्हड़ को जो करार…
तुम्हारी बाहों में लिप्टू खुद को, होजाऊँ इस झाहिल जहां से फरार ।
बेहद सा, बेहिसाब सा, बिना कोई मतलब का तुम्हारा दुलार..
तुम्हारी हसीं के पीछे का भाव न पढ़ सकी कौन है मुझसे बड़ा गंवार ??!
तू ही मेरी तावीज है, मेरी जन्नतें–ज़मीन,
फिर क्यों चढूं मैं किसी मंदिर का द्वार ??!
ना सिर्फ तुझ से ही, मुझे तो है
तेरे बालों की सफेदी और तेरी झुर्रियों से भी प्यार – बेशुमार प्यार !!!
-श्वेता जैन


sookhee dhara par giratee hai jaise boondon kee bauchhaar..
vaisa hee jaadoo sa laharaata tumhaara aanchal laata hai mere chehare par bahaar .
seene se lag kar milata mujh alhad ko jo karaar…
tumhaaree baahon mein liptoo khud ko, hojaoon is jhaahil jahaan se pharaar .
behad sa, behisaab sa, bina koee matalab ka tumhaara dulaar..
tumhaaree haseen ke peechhe ka bhaav na padh sakee kaun hai mujhase bada ganvaar ??!
too hee meree taaveej hai, meree jannaten–zameen,
phir kyon chadhoon main kisee mandir ka dvaar ??!
na sirph tujh se hee, mujhe to hai
tere baalon kee saphedee aur teree jhurriyon se bhee pyaar – beshumaar pyaar !!!
-shveta jain

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *